होम आत्म विकास 80/20 नियम क्या है?

80/20 नियम क्या है?

आज बात करते हैं जादुई 80/20 नियम की। हम सभी एक ऐसी लाइफ की चाहत तो रखते हैं जिसमें सब कुछ परफेक्ट हो। शरीर फिट और फाइन बना रहे, मन के विचार नियंत्रण में रहें, डाइट हेल्दी बनी रहे और एक खुशहाल जिंदगी का आनंद भी हो लेकिन इस चाहत को पूरा करने के लिए जो प्रयास हम करते हैं, अक्सर वो बीच में ही छूट जाते हैं और ऐसी बेहतरीन लाइफ की हमारी चाहत सपना बनकर रह जाती है।

ऐसे में अगर आप वाकई चाहते हैं कि आपको एक बेहतरीन लाइफ मिल सके तो इसके लिए आपको एक ख़ास नियम बहुत फायदा पहुंचा सकता है इसलिए क्यों ना आज उस नियम के बारे में जानें।

80/20 नियम क्या है?

अक्सर लक्ष्य पाने के लिए हम 100 प्रतिशत सख्ती और अनुशासन को अपनाते हैं लेकिन 80/20 का नियम बताता है कि अपने लक्ष्य पर 80% ध्यान केंद्रित करो और बाकी 20% में थोड़ा लचीलापन अपनाओ।

आइये,जानते हैं कि इस नियम को कैसे अपनाया जा सकता है-

डाइट में 80/20 नियम – अगर आप चाहते हैं कि फिटनेस पाने का आपका लक्ष्य अधूरा ना रह जाए तो इस नियम को अपनाइये। अपनी डाइट में 80 प्रतिशत खाना आपकी हेल्थ के अनुसार रखिये और 20 प्रतिशत अपनी जीभ के स्वाद के लिए रखिये।

20 परसेंट की छूट देकर आप अपनी डाइट में थोड़ा लचीलापन अपनाते हैं जिससे आपको बंदिश महसूस नहीं होती है और आपके लिए हेल्दी डाइट लेना हर दिन के साथ आसान होता जाता है।

एक्सरसाइज में 80/20 नियम – एक्सरसाइज शुरू करना आसान होता है लेकिन उसे लम्बे समय तक बनाये रखना बहुत मुश्किल लगता है। ऐसे में आप सप्ताह के ज्यादातर दिन एक्सरसाइज के लिए रखिये लेकिन किसी दिन छुट्टी लेना चाहे तो जरूर लें ताकि एक्सरसाइज से होने वाली थकान और ऊब के कारण आप इसे करना ना छोड़ दे।

टाइम मैनेजमेंट में 80/20 नियम – अपने दिन का 80 प्रतिशत समय सबसे अहम कामों में लगाइये और कम महत्त्व के कामों में ज्यादा समय वेस्ट मत करिये। दिन की शुरुआत के साथ सबसे जरुरी और बड़े काम निपटाना शुरु करिये और ये काम पूरे होने के बाद ही छोटे कामों का रुख करिये।

मन के लिए 80/20 नियम – अपने मन को सकारात्मकता से भरकर ही आप हर काम बेहतर तरीके से कर सकते हैं और उसी से आपकी सेहत और जीवन बेहतर बन सकता है इसलिए कोशिश करें कि आपके मन में आने वाले 80% विचार तो सकारात्मक ही हों।

इसके लिए आप अपने विचारों पर नज़र रख सकते हैं और सकारात्मक सोच रखने वाले लोगों के बीच रहकर अपने विचारों को सही दिशा दे सकते हैं। बाकी के 20% विचार भी बहुत जल्द सकारात्मक दिशा में मुड़ने लग जायेंगे।

एक संतुलित जीवनशैली के लिए जरुरी है कि इस बात को स्वीकारा जाए कि परफेक्ट कोई नहीं होता और अगर अपने लक्ष्य पर 80% ध्यान लगाया जाए और 20% लचीलापन अपनाया जाए तो हर लक्ष्य को भेदना पहले से कहीं ज्यादा आसान हो जाता है।

उम्मीद है जागरूक पर ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

पीने के पानी का टीडीएस कितना होना चाहिए?

जागरूक यूट्यूब चैनल