करंट लगने के बाद क्या करना चाहिए?

आइये जानते हैं करंट लगने के बाद क्या करना चाहिए। करंट यानी बिजली का झटका किसी को कहीं भी लग सकता है। इसका ख़तरा बारिश के दिनों में ज्यादा होता है लेकिन फिर भी किसी भी मौसम में व्यक्ति इसकी चपेट में आ सकता है।

कूलर, एसी, टीवी, फ्रिज या कोई भी बिजली से चलने वाली डिवाइस करंट लगा सकती है इसलिए सबसे पहले ये जरुरी है कि सभी बिजली के उपकरणों की साज संभाल सही से की जाए ताकि उनसे लगने वाले करंट की सम्भावना कम हो सके।

इसके अलावा ये जानना भी बहुत जरुरी है कि करंट लग जाने पर किसी व्यक्ति को कैसे बचाया जा सकता है क्योंकि इस जानकारी के अभाव में कई बार लोगों की जान भी चली जाती है और कई बार बचाने वाला भी करंट का शिकार हो जाता है।

ऐसे में आज आपको बताते हैं कि किसी व्यक्ति को करंट लगने पर, आपको क्या-क्या करना चाहिए ताकि उसकी जान बचायी जा सके और खुद को भी सुरक्षित रखा जा सके। तो चलिए, अब जानते हैं कि करंट लगने पर क्या किया जाये।

करंट लगने के बाद क्या करना चाहिए?

अगर आपके सामने किसी व्यक्ति को बिजली का झटका लगे और आप उसे बचाने के लिए आगे बढ़े, उससे पहले ये चेक कर लें कि आपके आसपास पानी और लोहे की कोई चीज़ तो नहीं रखी है क्योंकि इन दोनों में से करंट बहुत जल्दी पास होता है।

इसके बाद आप तुरंत सूखी चप्पल पहनें और प्लास्टिक या सूखी लकड़ी की मदद से बिजली के उस स्विच को बंद कर दें, जिससे आपके साथी को झटका लग रहा हो। अपने साथी को बचाने के लिए उसे छुएं नहीं, वरना आप भी करंट की चपेट में आ जाएंगे इसलिए लकड़ी की मदद से उसे बिजली के सम्पर्क से अलग करें।

अपने साथी को बिजली के संपर्क से अलग करने के बाद, उसे रिकवरी पोजीशन में लिटा दीजिये। इस पोजीशन में व्यक्ति को करवट दिलाकर इस तरह लिटाएं कि उसका एक हाथ सिर के नीचे हो और दूसरा हाथ आगे की ओर सीधा हो। इसी तरह एक पैर सीधा हो और एक मुड़ा हुआ रहे। इस पोजीशन में रखने पर व्यक्ति को जल्दी होश आने लगेगा।

व्यक्ति को कम्बल या तौलिए से ना ढ़कें।

अब ये जांचें कि व्यक्ति की सांसें कैसी चल रही हैं।

अगर व्यक्ति धीमी साँसे ले रहा है और वो थोड़ा जल गया है तो उस हिस्से को पानी से साफ कर दें।

अगर खून बह रहा हो तो तुरंत उस स्थान को साफ कपड़े से बाँध दें।

अगर व्यक्ति बेहोश हो गया हो या फिर साँस लेने जैसी कोई गतिविधि ना कर रहा हो तो तुरंत उसे सीपीआर (कार्डियो पल्मोनरी रिससिटैशन) दें।

जितना जल्दी हो सके, उस व्यक्ति को मेडिकल ट्रीटमेंट दिलाएं।

दुर्घटना किसी के भी साथ हो सकती है लेकिन अगर हमें उस दुर्घटना से सुरक्षित निकलने का रास्ता पता हो तो जान बचाना आसान हो जाता है इसलिए इन सभी बातों को ध्यान में रखें और सीपीआर देने का सही तरीका भी जरूर सीखें ताकि किसी जरूरतमंद की मदद की जा सके।

उम्मीद है जागरूक पर करंट लगने के बाद क्या करना चाहिए कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

नकारात्मक सोच से छुटकारा कैसे पाएं?

जागरूक यूट्यूब चैनल