Home » सामान्य ज्ञान » फसलों के वानस्पतिक नाम क्या है?

फसलों के वानस्पतिक नाम क्या है?

आज जागरूक पर हम फसलों के वानस्पतिक नाम के बारे में बात करेंगे। हमारे भारत देश में कई प्रकार की फसलें उगाई जाती है और उनसे पैदा होने वाले अनाज को कई देशों में बेचा भी जाता है। वैज्ञानिक जब इन फसलों पर शोध करते है तो इन फसलों को वो वानस्पतिक नाम देते है या फिर ये कह लें की इन्ही वानस्पतिक नामों से उनकी पहचान करते है। पर क्या आप इन फसलों के वानस्पतिक नामों को जानते हैं?

आज कल कई प्रतियोगी परीक्षाओं में भी कई फसलों के वैज्ञानिक नाम पूछ लिए जाते है जो की अक्सर हम भूल जाते है, आज हम जागरूक पर इन्हीं फसलों के वानस्पतिक नामों को जानेंगे। तो आइये जानते है हमारे दैनिक जीवन में उपयोग आने वाली कुछ फसलों के वानस्पतिक नामों के बारे में।

फसलों के वानस्पतिक नाम

1. खेजड़ी– खेजड़ी राजस्थान के राज्य वृक्ष के रूप में जाना जाता है। खेजड़ी का वानस्पतिक नाम “प्रोसोपिस स्पाइसीगेरा” है।

2. गेहूँ– गेहूँ की फसल भारत देश में कई राज्यों में उगाई जाती है। गेहूँ का वानस्पतिक नाम “ट्रीटिकम एसटिवम” है।

3. चावल– चावल फसल की पैदावार भारत देश में कई राज्यों में बहुत अधिक होती है। चावल का वानस्पतिक नाम “ऑरिजा सेटाइवा” है।

4. आलू– आलू हमारे दैनिक जीवन में सबसे ज्यादा उपयोग आता है। आलू का वानस्पतिक नाम “सोलेनम टयूबरोसम” है।

5. सिनकोना– सिनकोना की छाल से “कुनैन” नामक औषधि प्राप्त होती है जो मलेरिया ज्वर की दवा के रूप में उपयोग ली जाती है। सिनकोना का वानस्पतिक नाम “सिनकोना ऑफिसिनेलिस” है।

READ  मनुष्य के शरीर में कितनी हड्डियां होती है?

6. अश्वगंधा– अश्वगंधा से आयुर्वेदिक औषधि बनाई जाती है। अश्वगंधा आयुर्वेदिक दृष्टिकोण से बहुत ही फायदेमंद होता है। अश्वगंधा का वानस्पतिक नाम “विदानिया सोमनीफेरा” है।

7. कपास– कपास को एक नकदी फसल के रूप में जाना जाता जाता हैं। पूरे विश्व में इसकी 2 किस्म पाई जाती है। पहली- देशी कपास (गासिपियाम अर्बोरियाम) और दूसरी- अमेरिकन कपास (बरवेडेंस) है। कपास से रुई तैयार की जाती हैं, जिसे “सफेद सोना” कहा जाता हैं। कपास का वानस्पतिक नाम “गासिपियम स्पे” है।

8. रबर– रबर पेड़ों और लताओं के रस व रबरक्षीर (latex) से बनाया जाता है। इसे “भारतीय रबर” भी कहा जाता हैं। भारत में रबर ट्रावनकोर, कोचीन, मैसूर, मलाबार, कुर्ग, सलेम और श्रीलंका में उगाया जाता है। रबर का वानस्पतिक नाम “हीविया ब्रेसिलियन्सिस” है।

9. रतनजोत– रतनजोत एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण औषधीय पौधे के रूप में जाना जाता है जिससे अनेक प्रकार की औषधियाँ बनाई जाती है तथा इसका उपयोग भोजन में मसाले के रूप में भी किया जाता है। रतनजोत का वानस्पतिक नाम “आर्निबिया हिस्पिडिसिमा” है।

10. अफीम– अफ़ीम के पौधे पैपेवर सोमनिफेरम के ‘दूध’ को सुखा कर बनाया जाने वाला एक पदार्थ होता है। इसका सेवन करने वाले को मादकता और तेज नीद आती है। इसका ज्यादा मात्रा में सेवन करना काफी नुकसानदायक होता है। अफ़ीम का वानस्पतिक नाम “पेपैवर सोमनीफेरम” है।

11. अजवायन– अजवायन एक औषधि की तरह कार्य करती है इसके बहुत से गुण हैं। इसका प्रयोग कई प्रकार के रोगों के उपचार में भी किया जाता है। अजवायन मसाला, चूर्ण, काढ़ा, क्वाथ और अर्क के रूप में भी काम में लायी जाती है। अजवायन का वानस्पतिक नाम “ट्रेकीस्पर्मम एमी” है।

READ  पेड़ से पत्ते क्यों गिरते हैं?

12. तम्बाकू– निकोटियाना प्रजाति के पेड़ के पत्तों को सुखा कर नशा करने हेतु बनाया जाने वाला पदार्थ ही तम्बाकू होता है। यह तम्बाकू एक प्रकार का मीठा जहर होता है जो की जानलेवा है। इसके सेवन से व्यक्ति की मौत हो सकती है। इसलिए तम्बाकू का सेवन नहीं करना चाहिए। तम्बाकू का वानस्पतिक नाम “निकोटियाना टेबेकम” है।

ये थी कुछ ऐसी फसल जो हमारे दैनिक जीवन में हमेशा काम में आती रहती हैं, इसलिए इन फसलों का वानस्पतिक नाम हमें पता होना जरूरी है।

हमें उम्मीद है जागरूक पर आपके लिए यह जानकारी उपयोगी साबित होगी, आगे भी आपके बीच इसी प्रकार की रोचक जानकारी जागरूक के माध्यम से लाते रहेंगे।