फाइबर की कमी दूर करने के आसान घरेलू उपाय

आइये जानते हैं फाइबर की कमी दूर करने के आसान घरेलू उपाय। आपने ये ज़रूर सुना होगा कि खाने में फाइबर का होना बहुत ज़रूरी है इसलिए ऐसे आहार का चुनाव करना चाहिए जिसमें भरपूर फाइबर मौजूद हो। महिलाओं के लिए 25 ग्राम फाइबर की ज़रूरत होती है जबकि पुरुषों के लिए 40 ग्राम फाइबर आवश्यक होता है। आहार में फाइबर की कमी होने से कब्ज़ की समस्या रहने लगती है और शरीर में पानी की कमी हो जाती है।

ब्लड में शुगर और कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ने लगता है, बवासीर की समस्या हो जाती है और आँतों में तकलीफ रहने लगती है। ऐसे में फाइबर युक्त आहार लेकर ही इन समस्याओं से निजात पायी जा सकती है और शरीर को स्वस्थ रखा जा सकता है। तो चलिए, आज जानते हैं फाइबर की कमी को दूर करने के लिए आहार में किन भोज्य-पदार्थों को शामिल किया जाना चाहिए।

फाइबर की कमी दूर करने के आसान घरेलू उपाय

दालें – दाल हर घर के भोजन का अभिन्न अंग है जिसे बहुत ख़ुशी के साथ खाया भी जाता है। लेकिन अगर आप दाल खाना पसंद नहीं करते हैं तो अब इसे खाना शुरू कर दीजिये क्योंकि इसमें फाइबर की प्रचुर मात्रा पायी जाती है। जो आपके डाइजेशन को सही रखती है और कब्ज़ की समस्या से बचाव करती है।

मक्का खाएं – अगर आप फाइबर की प्रचुर मात्रा पाना चाहते हैं तो मक्का का सेवन करना शुरू कर दीजिये क्योंकि इसे एक बार खाने से ही करीब 4 ग्राम फाइबर शरीर को मिल जाता है। इसलिए अपने अनाज में मक्का को भी तुरंत शामिल कर लीजिये।

हरी सब्ज़ियां – हरी सब्ज़ियों में भी फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है इसलिए अपने रोज़ के खाने में हरी सब्ज़ियों को ज़रूर शामिल करें।

फलों का सेवन – सेब और नाशपाती जैसे फलों को इनके छिलके के साथ खाने से शरीर को पानी के अलावा फाइबर भी प्रचुर मात्रा में मिलता है और सुबह के नाश्ते में फलों का सेवन करने से इनसे होने वाले फायदों का ज़्यादा लाभ उठाया जा सकता है।

फलों का रस भी सेहत के लिए अच्छा होता है लेकिन फाइबर की ज़्यादा मात्रा चाहते हैं तो फल खाना ही बेहतर विकल्प होगा।

ब्राउन राइस – अगर आप अपने भोजन में चावल को शामिल करना पसंद करते हैं तो सफ़ेद चावल की जगह ब्राउन राइस इस्तेमाल करना शुरू कर दीजिये।

ब्रेड भी गेहूं के आटे से बनी ब्राउन ब्रेड ही लीजिये क्योंकि इनमें फाइबर की काफी मात्रा मौजूद होती है। जो शरीर को नुकसान होने से बचाती भी है और फायदा भी पहुँचाती है।

ओटमील का सेवन – ओटमील में मौजूद बीटा-ग्लूकॉन एक विशेष प्रकार का फाइबर प्रदान करता है जिससे शरीर में फाइबर की कमी दूर होने के अलावा कोलेस्ट्रॉल का लेवल भी कण्ट्रोल में रहता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

शरीर के लिए फाइबर युक्त भोजन ज़रूरी होता है, ये तो आप जानते ही थे। अब आप इस बात से भी परिचित हैं कि किस प्रकार के और कौनसे पोषणयुक्त खाद्य पदार्थों को अपने रोज़ाना के आहार का हिस्सा बनाया जाए जिससे शरीर को पर्याप्त मात्रा में फाइबर मिल सके और शरीर को निरोगी रखने का एक और प्रयास हम कर सकें।

तो बस, देर किस बात की! फाइबर की मात्रा बढ़ाने के लिए आपको किसी विशेष आहार की ज़रूरत नहीं है। बस हरी सब्ज़ियों, फल और दालों जैसी पौष्टिक चीज़ों को खुले दिल से अपनाना है और हर दिन को स्वस्थ बना लेना है।

उम्मीद है जागरूक पर फाइबर की कमी दूर करने के आसान घरेलू उपाय कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

दिनचर्या कैसी होनी चाहिए?

जागरूक यूट्यूब चैनल