होम निवेश फाइनेंशियल प्लानिंग में टर्म प्लान कितना जरूरी?

फाइनेंशियल प्लानिंग में टर्म प्लान कितना जरूरी?

आइये जानते हैं फाइनेंशियल प्लानिंग में टर्म प्लान कितना जरूरी। लाइफ में आगे कब कौनसी अनहोनी हो जाए, ये तो हम में से कोई नहीं जानता लेकिन ऐसी अनहोनी के समय फाइनेंशियली मजबूत रहने की तैयारी तो करी जा सकती है ना।

ऐसे में फाइनेंशियल प्लानिंग में टर्म प्लान कितना जरुरी होता है, ये जान लेना आपके लिए बेहतर रहेगा। तो चलिए, आज जानते हैं कि फाइनेंशियल प्लानिंग में टर्म प्लान कितना जरूरी होता है।

फाइनेंशियल प्लानिंग में टर्म प्लान कितना जरूरी?

टर्म प्लान इंश्योरेंस पॉलिसी का सबसे शुद्ध स्वरुप है। इस तरह की पॉलिसी पूरी तरह सुरक्षा के लिहाज से ली जाती है। इसमें बहुत कम प्रीमियम में काफी ऊँची कीमत का कवर मिलता है। सामान्य तौर पर टर्म पॉलिसी 10, 15, 20, 25 और 30 सालों के लिए ली जाती है।

प्रीमियम बैक प्लान काफी महंगे होते हैं, जो पॉलिसी अवधि खत्म होने पर ही मिलते हैं इसलिए प्रीमियम बैक प्लान लेने की बजाए टर्म प्लान खरीदना चाहिए और प्रीमियम से बचे पैसों को म्युचुअल फंड में इन्वेस्ट कर देना चाहिए।

हर कंपनी बीमा राशि देने के लिए अलग-अलग विकल्प रखती है। कुछ कम्पनियाँ किश्तों में बीमा राशि का ऑप्शन देती हैं। ऐसे में इस तरह किश्तों में बीमा राशि मिलने वाले प्लान नहीं खरीदें क्योंकि किसी तरह की अनहोनी होने पर, इन प्लान्स में कुछ पैसा एकमुश्त मिलता है जबकि बाकी पैसा कई सालों तक किश्तों में मिलता है।

कई कम्पनियाँ ऐसी भी होती हैं जो लाइफ कवर प्लान के लिए पूरी ज़िन्दगी के लिए टर्म प्लान देती हैं लेकिन होल लाइफ कवर प्लान का प्रीमियम बहुत ज़्यादा होता है इसलिए ऐसे प्लान लेने की बजाए बेसिक टर्म प्लान ही खरीदना चाहिए और बचे हुए पैसे इन्वेस्ट करने चाहिए।

अगर आप एक्सीडेंट कवर वाले टर्म प्लान लेने की सोचते हैं तो ये भी जान लें कि ऐसे टर्म प्लान लेने में फायदा नहीं होता है। इसकी बजाए एक्सीडेंट के लिए अलग से इंश्योरेंस कराना सही रहता है।

एक्सीडेंट कवर में स्थायी और अस्थायी दोनों अपंगता कवर होती है। टर्म कवर लेते समय महंगाई का ध्यान रखना भी ज़रूरी होता है। ऐसे में टॉप प्लान खरीदना चाहिए क्योंकि टॉप प्लान में हर साल कवर बढ़ता जाता है।

अगर परिवार में आप अकेले कमाने वाले हैं तो टर्म प्लान लेना बेहतर रहेगा। अपनी सैलरी का 10 से 12 गुना ज़्यादा कवर लेना चाहिए। टर्म कवर के साथ एक्सीडेंटल, डिसएबिलिटी, क्रिटिकल इलनेस राइडर भी ज़रूर लेना चाहिए।

लाइफ में आगे क्या होगा, ये जानना संभव नहीं है लेकिन आने वाले समय में आप और आपका परिवार आर्थिक रूप से सुरक्षित महसूस कर सकेंगे या नहीं, ये तय करना आपके हाथ में है।

अब आपको टर्म प्लान से जुड़ी जरुरी जानकारी भी मिल चुकी है इसलिए अपने पैसों को सही जगह, सही तरीके से इन्वेस्ट करिये ताकि आपका आज भी सुरक्षित रहे और आने वाले कल की पकड़ भी आपके हाथ में बनी रहे।

उम्मीद है जागरूक पर फाइनेंशियल प्लानिंग में टर्म प्लान कितना जरूरी कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

नकारात्मक सोच से छुटकारा कैसे पाएं?

जागरूक यूट्यूब चैनल

Subscribe to our newsletter

To be updated with all the latest posts.

Latest Posts

ओलंपियाड क्या है?

आइये जानते हैं ओलंपियाड क्या है। आप अपने आस-पास या फिर स्कूल में अपने साथियों को एजुकेशनल कॉम्पिटिशंस जैसी कुछ परीक्षाओं में अवॉर्ड्स और...