Home » रोचक तथ्य » गूगल का इतिहास

गूगल का इतिहास

आइये जागरूक पर गूगल का इतिहास जानते हैं। गूगल एक ऐसा नाम है जिसने इंटरनेट की दुनिया में तहलका मचाया है और गूगल ने हर समस्या का हल निकालने में इतनी मदद की है कि अब गूगल यानी इंटरनेट और इंटरनेट यानि गूगल हो गया है लेकिन क्या आप जानते हैं कि गूगल असल में क्या है और इसे कैसे बनाया गया? अगर आप ये नहीं जानते हैं तो क्यों ना आज हम यही जान लें।

तो चलिए, आज गूगल के इतिहास के बारे में जानते हैं:-

गूगल एक ऐसा सर्च इंजन है जो हर तरह के सवाल का जवाब ढूंढ़ने में मदद करता है। इसकी बढ़िया सर्विस के कारण ये इतना पॉपुलर हो गया। गूगल की खोज से पहले इंटरनेट पर कुछ भी सर्च करना इतना आसान नहीं हुआ करता था जितना आज होता है।

असल में गूगल एक मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी है जो इंटरनेट से जुड़ी सर्विस और प्रोडक्ट्स लोगों को सेवा के रुप में प्रदान करती है। ये कंपनी सर्च क्लाउड कम्प्यूटिंग, ऑनलाइन एडवरटाइजिंग टेक्नोलॉजी जैसी कई सर्विसेज देती है। गूगल ऐडवर्ड्स (AdWords) से प्रॉफिट कमाता है जो इसका एडवर्टाइजिंग प्रोग्राम है।

गूगल की स्थापना लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन ने जनवरी 1996 में की थी। इन्हें ‘गूगल गाइस’ के नाम से भी जाना जाता है। इन दोनों पीएचडी स्टूडेंट्स को इंटरनेट पर कुछ भी सर्च करने में बहुत घंटे लगते थे और उसके बाद भी सही और यूजफुल जानकारी नहीं मिलती थी तो इस समस्या को दूर करने के लिए उन्होंने सर्च इंजन की खोज कर डाली। इन दोनों स्टूडेंट्स ने अपनी रिसर्च में गूगल को सर्च इंजन नाम दिया और बाद में इस सर्च इंजन को ‘गूगल’ नाम मिला।

गूगल अंग्रेजी के शब्द गूगोल से बना है जिसका अर्थ होता है – वो नंबर जिसमें एक के बाद सौ शून्य हो। ये नाम बताता है कि कंपनी का सर्च इंजन, लोगों के लिए बड़ी मात्रा में जानकारी उपलब्ध कराने के लिए कार्यरत है।

शुरुआती दिनों में गूगल स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की वेबसाइट के अधीन google.stanford.edu नामक डोमेन से चला और गूगल के लिए इसका डोमेन नेम 15 सितंबर 1997 को रजिस्टर हुआ।

शुरु में गूगल इतना पॉपुलर नहीं हो सका और दोनों स्टूडेंट्स ने इसे Excite कम्पनी को बेचना चाहा लेकिन उस कंपनी को ये ऑफर पसंद नहीं आया। जब बहुत – सी कंपनियों ने इस ऑफर को ठुकरा दिया तब ये प्रोजेक्ट Andy Bechtolsheim नामक इन्वेस्टर को पसंद आया और उसने इसमें इन्वेस्ट किया। उसके बाद कुछ और इन्वेस्टर्स इस प्रोजेक्ट को मिले और 4 सितम्बर 1998 को गूगल को एक कंपनी में स्थापित किया गया।

गूगल का पहला सार्वजनिक कार्य 19 अगस्त 2004 से शुरू हुआ और इसी दिन लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन ने अगले बीस सालों तक गूगल में एक साथ काम करने की सहमति भी दी।

साल 2006 से इस कम्पनी का मुख्यालय माउंटेन व्यू, कैलिफोर्निया में स्थित है। गूगल की प्रसिद्धि लगातार बढ़ती ही गयी है और आज इंटरनेट और गूगल एक दूसरे के पर्याय समझे जाते हैं।

दोस्तों, हर सर्विस को लोकप्रिय होने में थोड़ा समय जरूर लगता है लेकिन अगर सर्विस लोगों की जरुरत और सहूलियत के बारे में सोच कर दी जाए तो बहुत जल्द वो प्रसिद्ध हो ही जाती है जैसे गूगल के साथ हुआ है।

जागरुक टीम को उम्मीद है कि गूगल के इतिहास से जुड़ी ये खास जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए उपयोगी भी साबित होगी।

गूगल के बारे में रोचक जानकारियां

अधिक जानकारी के लिए ये भी देखें:

गूगल – विकिपीडिया

3 thoughts on “गूगल का इतिहास”

  1. आपको जानकार शायद आस्चर्य हो लेकिन यह सच है की Google ने अपने Head Office में करीब 200 बकरियों को रख रखा है ताकि वो सारी बकरिया घास को खा सके google ने घास काटने के लिए मशीन नहीं रखी क्यों की गूगल का मानना है की मशीन की आवाज से काम करने वाले लोगो को परेशानी होती है। और वो disturb ना हो इसी कारण उन्होंने ऑफिस में बकरियां रख रखी है।

  2. google इतना बड़ा सर्च इंजन है की इस पर हर सेकंड में लगभग 65 हजार से भी ज्यादा searching होती है।

Comments are closed.