Home » स्वास्थ्य » विटामिन बी12 क्यों जरूरी है हमारे शरीर के लिए?

विटामिन बी12 क्यों जरूरी है हमारे शरीर के लिए?

आइये जानते हैं विटामिन बी12 क्यों जरूरी है हमारे शरीर के लिए (vitamin b12 kyu jaruri hai)। शरीर को स्वस्थ बनाये रखने में विटामिन्स का भी खास महत्व होता है। हमारा शरीर विटामिन की पर्याप्त मात्रा का निर्माण नहीं कर पाता है इसलिए भोजन के ज़रिये ही विटामिन्स की आवश्यक मात्रा की पूर्ति हो पाती है। विटामिन B12 भी एक ऐसा ही ज़रूरी विटामिन है जो दिल को स्वस्थ बनाये रखता है और कैंसर से बचाव करने के अलावा खून की कमी होने से रोकता है।

लेकिन ज़्यादातर लोगों में इस विटामिन की काफी कमी पायी जाती है क्योंकि शाकाहारी भोजन से इस विटामिन की पर्याप्त मात्रा शरीर को नहीं मिल पाती जिसके कारण इसकी कमी से कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है।

ऐसे में ये जान लेना बेहद ज़रूरी हो जाता है कि हमारे शरीर के लिए विटामिन बी12 (Vitamin B12) का महत्व और इसकी कमी के कारण और लक्षणों को हम पहचान सकें। तो चलिए आज बात करते हैं विटामिन B12 के बारे में।

विटामिन बी12 क्यों जरूरी है? (Vitamin B12 kyu jaruri hai)

  • विटामिन बी12 या कोबालामिन, नर्वस सिस्टम को स्वस्थ बनाये रखता है।
  • ये विटामिन लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए भी ज़रूरी होता है।
  • विटामिन बी12 मस्तिष्क की प्रक्रियाओं के लिए आवश्यक होता है।
  • ये विटामिन डीएनए, आरएनए और न्यूरोट्रांसमीटर के उत्पादन में भी सहायक होता है।

विटामिन बी12 की शरीर में कमी होने के क्या कारण हो सकते हैं? (Vitamin B12 ki kami ke karan)

  • एनीमिया अगर लम्बे समय तक बना रहे तो शरीर में विटामिन बी12 की कमी हो सकती है।
  • ये विटामिन एनिमल प्रोडक्ट्स में ज़्यादा पाया जाने के कारण शाकाहारियों में इसकी कमी पायी ही जाती है।
  • आनुवंशिक कारण से भी इस विटामिन की कमी हो सकती है।
  • वजन घटाने के लिए या किसी कारण से आँतों की सर्जरी कराने की स्थिति में भी विटामिन बी12 की कमी हो सकती है।
  • क्रोहन आँतों की एक बीमारी है जिसमें आंतें विटामिन बी12 का अवशोषण नहीं कर पाती हैं इसलिए ये बीमारी होने पर शरीर में विटामिन बी12 की कमी हो जाती है।
  • पूरी तरह माँ के दूध पर आश्रित रहने वाले शिशुओं में बाहरी पोषण की कमी के कारण भी इस विटामिन की कमी हो जाती है।
  • 50 वर्ष से ज़्यादा उम्र के लोगों में भोजन से इस विटामिन को अवशोषित करने की क्षमता कम होती जाती है।
  • विटामिन बी12 पानी में घुलनशील विटामिन है इसलिए पानी को कम मात्रा में पीना भी इसके अवशोषण को कम कर सकता है।
READ  पैनक्रियाज क्या है?

विटामिन बी12 की कमी से शरीर पर क्या प्रभाव पड़ सकते हैं?

  • हमारा शरीर हर मिनट में लाखों रेड ब्लड सेल्स का निर्माण भले ही करता हो लेकिन विटामिन बी12 के बिना ये रेड
  • ब्लड सेल्स विकसित नहीं हो पाती हैं जिसके कारण खून की कमी हो जाने से एनीमिया रोग हो सकता है।
  • नर्वस सिस्टम को स्वस्थ बनाने वाले विटामिन बी12 की कमी से ब्रेन डैमेज भी हो सकता है।
  • इसकी कमी से कैंसर और अल्ज़ाइमर जैसी गंभीर बीमारियों का ख़तरा भी बना रहता है।
  • इस विटामिन की कमी से फोलिक एसिड का अवशोषण रुक जाता है।
  • ‘एंटी-स्ट्रेस विटामिन्स’ में से एक, विटामिन बी12 की कमी होने से तनाव बढ़ने लगता है।
  • विटामिन बी12 की कमी से हृदय रोग होने की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं।

विटामिन बी12 की कमी के लक्षणों को कैसे पहचाने? (Vitamin B12 ki kami ke lakshan)

  • त्वचा पीली पड़ना
  • मुँह में छाले हो जाना
  • जीभ में सूजन आना
  • हाथ-पैरों में झनझनाहट और जलन होना
  • थकान और कमज़ोरी महसूस करना
  • पाचन का कमज़ोर हो जाना
  • भूख कम लगना
  • कान में घंटी जैसी आवाज़ें आना
  • चिड़चिड़ापन
  • याददाश्त कम हो जाना

ये सभी लक्षण शरीर में विटामिन बी12 की कमी होने का संकेत देते हैं।

विटामिन बी12 की कमी को दूर कैसे करें? (Vitamin B12 ki kami dur karne ke upay)

इस विटामिन की कमी को दूर करने से पहले ये जानना होगा कि शरीर में इस विटामिन की कमी के कारण ही ऐसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं।

इसके लिए विटामिन बी12 से जुड़े टेस्ट कराएं और कमी आने पर डॉक्टर इंजेक्शन या विटामिन सप्लीमेंट्स देकर आपको राहत दिला सकते हैं।

READ  सर्दी जुकाम दूर करने के घरेलू उपाय

इसके अलावा अपनी डाइट में कुछ चीज़ों पर विशेष ध्यान देकर इस विटामिन की कमी को दूर किया जा सकता है।

शाकाहार में विटामिन बी12 के विकल्प-

दूध और दही – दूध और दही का सेवन करके विटामिन बी12 लिया जा सकता है, साथ ही सोया प्रोडक्ट्स जैसे- सोया बीन, सोया दूध में भी विटामिन B12 की प्रचुर मात्रा पायी जाती है।

पनीर – पनीर में भी विटामिन B12 की अच्छी मात्रा पायी जाती है। स्विस पनीर में सबसे ज़्यादा विटामिन B12 पाया जाता है और कॉटेज चीज़ भी विटामिन B12 का अच्छा सोर्स है।

सब्जियां– आलू, शलजम, चुकंदर, गाजर, मूली जैसी सब्जियां जो जमीन के अंदर उगती हैं, इनमें भी विटामिन बB12 की थोड़ी मात्रा पायी जाती है।

अब तो आप जान चुके हैं कि हमारे शरीर को विटामिन B12 की कितनी ज़रूरत होती है और कैसे हम इस विटामिन की कमी को दूर कर सकते हैं।

तो बस, देर किस बात की। अभी से अपने आहार पर थोड़ा ध्यान दीजिये और अगर इस विटामिन की कमी से होने वाले लक्षण आपको महसूस हो रहे हैं तो बिना घबराये, तुरंत डॉक्टर से मिलिए।

इस विटामिन की कमी पर समय रहते ध्यान दिया जाए तो इसकी कमी से होने वाली बड़ी-बड़ी बीमारियों से भी बड़ी आसानी से बचा जा सकता है।

उम्मीद है जागरूक पर विटामिन बी12 क्यों जरूरी है (Vitamin B12 kyu jaruri hai) कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

दिमाग में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं?

जागरूक यूट्यूब चैनल

Leave a Comment