Home » सामान्य ज्ञान » कौनसा रंग किसका प्रतीक है?

कौनसा रंग किसका प्रतीक है?

आइये जानते हैं कौनसा रंग किसका प्रतीक है (kaunsa rang kiska pratik hai)। हमारे जीवन में रंगों का बहुत महत्व है और हमारे चारों तरफ की दुनिया रंगों से भरी है जिसमें से कुछ रंग हल्के होते हैं तो कुछ रंग चटकीले होते हैं। इतना ही नहीं, हम सबके पसंदीदा रंग भी अलग-अलग ही होते हैं लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि हर रंग कुछ कहता है।

ऐसे में आप भी जानना चाहते होंगे कि कौनसा रंग किसका प्रतीक होता है और उसका क्या महत्त्व होता है (jeevan mein rango ka mahatva)। तो चलिए, आज जानते हैं रंगों की इस दुनिया के बारे में।

कौनसा रंग किसका प्रतीक है? (kaunsa rang kiska pratik hai)

लाल रंग (lal rang kiska pratik hai) – जिस लाल रंग को मंगल और पराक्रम का प्रतीक माना जाता है वही लाल रंग हमारे शरीर को स्वस्थ और मन को प्रसन्न बनाने वाला होता है। ये लाल रंग खुशी, सम्पन्नता का प्रतीक होता है और धन, अपार सम्पदा और समृद्धि को प्रकट करने वाला भी होता है।

हरा रंग (hara rang kiska pratik hai) – प्रकृति का हरा रंग मन मोहने वाला होता है। हरा रंग मन को शान्ति और शीतलता का अहसास कराता है। सुख, शांति और स्फूर्ति देने वाला हरा रंग उद्योगशीलता को प्रकट करता है।

पीला रंग (peela rang kiska pratik hai) – मानसिक और बौद्धिक उन्नति का प्रतीक पीला रंग ज्ञान, विद्या, सुख, शांति, योग्यता और एकाग्रता का भी प्रतीक होता है। असीम ज्ञान प्रकट करने वाला ये रंग मस्तिष्क को आनंदित और उत्तेजित भी करता है।

READ  भारत में कुल कितने जिले है?

गेरुआ रंग (gerua rang kiska pratik hai) – नारंगी रंग नए सवेरे का रंग होता है यानी ये रंग जीवन में नया उजाला लाने वाला होता है। हमारे शरीर में मौजूद चक्रों में से आज्ञा चक्र का रंग गेरुआ होता है और आज्ञा ज्ञान प्राप्ति का सूचक होता है। इस रंग से आभामंडल के काले हिस्से का शुद्धिकरण भी हो जाता है।

नीला रंग (neela rang kiska pratik hai) – आसमान और समुद्र का रंग नीला होता है जो हमारे मन को बहुत पसंद आता है। मनोविज्ञान के अनुसार नीला रंग बल, पौरुष और वीर भाव का प्रतीक होता है।

सफेद रंग (safed rang kiska pratik hai) – जिस सफेद रंग को बेरंग समझा जाता है, असल में वो सफेद रंग सात रंगों का मिश्रण होता है। सफेद रंग पवित्रता, शुद्धता, शांति और विद्या का प्रतीक होने के साथ मानसिक, बौद्धिक और नैतिक स्वच्छता को भी प्रकट करता है।

काला रंग (kala rang kiska pratik hai) – काले रंग की खासियत है कि ये रंग कुछ भी परावर्तित करने की बजाये सबकुछ सोख लेता है। अगर लम्बे समय तक काले रंग के कपड़े पहनकर नकारात्मक ऊर्जा के संपर्क में आया जाए तो ये रंग हमारे अंदर के सारे भावों को सोख लेगा और मानसिक स्थिति बहुत अस्थिर और असंतुलित हो जाएगी लेकिन अगर आप अच्छी और शुभ ऊर्जा के संपर्क में काला रंग पहनकर रहेंगे तो ये रंग सारी अच्छी ऊर्जा को अपने में सोख लेगा।

अब आप जान गए होंगे कि कौनसा रंग किसका प्रतीक होता है और हर रंग का अपना विशेष महत्त्व और उपयोगिता होती है।

READ  गोल्डन ट्रायंगल क्या है?

उम्मीद है जागरूक पर कौनसा रंग किसका प्रतीक है (kaunsa rang kiska pratik hai) कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

दिमाग में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं?

जागरूक यूट्यूब चैनल

Leave a Comment