Home » स्वास्थ्य » मेटाबॉलिज्म क्या है?

मेटाबॉलिज्म क्या है?

आइये जानते हैं मेटाबॉलिज्म क्या है। आपने ज्यादातर डॉक्टर के द्वारा यह सुना होगा की मेटाबॉलिज्म धीमे होने की वजह से आपका वजन बढ़ रहा है। मेटाबॉलिज्म वजन बढ़ाने के साथ-साथ और भी बिमारियों को पैदा करता है। मेटाबॉलिज्म (चयापचय) एक तरह की प्रक्रिया है जो की हमारे भोजन को ऊर्जा में बदलने का कार्य करती है और यह ऊर्जा को हम अपने प्रतिदिन के कार्यों में खर्च करते हैं।

आसान भाषा में समझें तो हमारे शरीर में भोजन को ऊर्जा में परिवर्तन करना मेटाबॉलिज्म (चयापचय) कहलाता है और साइंटिफिक टर्म में शरीर में रासायनिक प्रतिक्रियाओं के प्रभाव को भी मेटाबॉलिज्म कहते हैं, ये रासायनिक प्रतिक्रिया हमारे शरीर को सक्रिय और जीवित बनाये रखने का कार्य करती है। आज हम आपको मेटाबॉलिज्म के बारे में जागरूक के माध्यम से बताने जा रहे है आइये जानते हैं।

मेटाबॉलिज्म क्या है?

मेटाबॉलिज्म रासायनिक प्रक्रिया है जो जीवन को सक्रिय बनाए रखने का कार्य करती है और हमारे शरीर में भोजन को ऊर्जा में परिवत्रित करती है। यह हमारे पाचन तंत्र की प्रक्रिया है जो फूड को तोड़कर ऊर्जा (एनर्जी) में बदल देता है जिससे हमें अपने दैनिक जीवन के कार्यों को करने के लिए पर्याप्त एनर्जी मिलती रहे।

Metabolism प्रक्रिया द्वारा जो भी भोज्य पदार्थ हम खाते और पीते हैं वह हमारी Body में एनर्जी में बदलता है और यह एक बायोकेमिकल प्रक्रिया है।

मेटाबॉलिज्म रेट क्या है?

मेटाबॉलिज्म (चयापचय), BMR (बेसल मेटाबॉलिक रेट) पर निर्भर करता है। यह एक दर है जो हमारे शरीर में चयापचय क्रिया का निर्धारण करती है और यह बताती है की हमारे शरीर को कोई भी कार्य को करने के लिए कितनी ऊर्जा की आवश्यकता है।

मेटाबॉलिज्म रेट जितनी अधिक होती है उतना ही अधिक आप ऊर्जावान और सक्रीय रहेंगे। चयापचय रेट कम होना यानी मेटाबॉलिज्म रेट धीमे होना हमारे शरीर में मोटापा को बढ़ाने के साथ, जोडों में सूजन, भारी मासिक धर्म जैसी समस्याएं पैदा करती है।

मेटाबॉलिज्म के प्रकार– मेटाबॉलिज्म (Metabolism) सामन्यतः दो प्रकार से कार्य करती है। 1. अपचय(Catabolism), 2. उपचय(Anabolism)

अपचय– हमारे शरीर में भोज्य-पदार्थों के बड़े-बड़े अणु (Molecules) छोटे-छोटे अणुओं में टूटूकर उर्जा मुक्त करते हैं। अपचय कार्बोहाइड्रेट को ग्लाइकोजन में बदलता है जिसे हमें एनर्जी के रूप में इस्तेमाल करते हैं।

उपचय– शरीर में सामान्य अणुओं से जीव द्रव्य के अपेक्षाकृत बड़े अणुओं का निर्माण करना एनाबोलिज्म कहलाती हैं। इससे हमारे शरीर में नए पदार्थों का संश्लेषण, शरीरिक विकास, वृद्धि सम्भव है। प्रकाश-संश्लेषण भी एक प्रकार की एनाबोलिक क्रिया है।

मेटाबॉलिज्म कैसे बढ़ाएं?

आपको इस लेख में यह तो पता चल गया होगा की मेटाबॉलिज्म रेट जितनी अधिक होगी उतना ही अधिक हमें ऊर्जा मिलगी और हम स्वस्थ रहेंगे।

मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने के लिए प्रोटीन से युक्त भोजन करना चाहिए और पानी अधिक मात्रा में पीना चाहिए। मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के लिए हमें व्यायाम करने चाहिए और ग्रीन टी, कॉफी, नारियल पानी इत्यादि का सेवन करना चाहिए। अपने चिकित्सक से सलाह जरूर करें।

उम्मीद है आपको जागरूक पर मेटाबॉलिज्म क्या है की ये जानकारी पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद साबित हुई होगी।

जागरूक यूट्यूब चैनल