Home » नारी » नवजात शिशु का वजन और लम्बाई कितनी होनी चाहिए?

नवजात शिशु का वजन और लम्बाई कितनी होनी चाहिए?

जन्म के समय शिशु का वजन (navjat shishu ka vajan) सही होना बहुत जरुरी होता है क्योंकि नवजात शिशु का वजन उसके विकास को प्रभावित करता है। अगर शिशु का वजन कम होता है तो उसका धीमा विकास होने की सम्भावना हो सकती है जबकि सही वजन होने पर शिशु का तेजी से विकास होता है और उसका स्वास्थ्य सही रहता है। ऐसे में आज इसी बारे में जानकारी लेते हैं कि नवजात शिशु का वजन कितना होना चाहिए।

नवजात शिशु का वजन और लम्बाई कितनी होनी चाहिए? (navjat shishu ka vajan aur ausat lambai kitna hona chahiye)

एक सामान्य गर्भवती महिला की गर्भावस्था का 40 वां महीना पूरा होने के बाद जो बच्चा जन्म लेता है, उसका औसत वजन 2.8 किलो से 3.2 किलो तक होता है। इसी वजन को सामान्य वजन माना जाता है। इससे कम वजन होने पर शिशु को ख़ास देखरेख में रखा जाता है और अगर शिशु का वजन 1.5 किलो ही हो तो ऐसे शिशु को विशेष चिकित्सकीय देखभाल में रखा जाना जरुरी हो जाता है।

जिस तरह जन्म के समय शिशु का औसत वजन उसके स्वास्थ्य की जानकारी देता है, वैसे ही शिशु की लम्बाई (janm ke samay navjaat shishu ki ausat lambai) भी उसके स्वास्थ्य का आधार होती है। शिशु की सामान्य औसत लम्बाई 14 से 20 इंच होनी चाहिए और लड़के और लड़की की लम्बाई में फर्क भी हो सकता है। ऐसे में नवजात शिशु अगर लड़का है तो उसकी औसत लम्बाई 50.6 सेमी तक होती है और अगर नवजात शिशु लड़की हो तो उसकी औसत लम्बाई 50.1 सेमी तक होती है।

जन्म के समय नवजात शिशु के औसत वजन और लम्बाई से जुड़ी जानकारी लेने के बाद, उन फैक्टर्स के बारे में भी जानना चाहिए जो शिशु के वजन और लम्बाई को प्रभावित करते हैं:-

  • प्रेग्नेंसी का समय
  • प्रेग्नेंसी के दौरान मिलने वाला पोषण
  • प्रेग्नेंसी के दौरान माँ की सेहत
  • पहले पैदा हुए बच्चों का वजन
  • जुड़वां बच्चों का जन्म होना
  • शिशु का लड़का या लड़की होना
  • प्रेग्नेंसी के समय बच्चे का स्वास्थ्य
  • आनुवंशिकता

जन्म के समय शिशु का वजन (navjat shishu ka bhar) कई शारीरिक और मानसिक समस्याएं पैदा कर सकता है लेकिन हर बार ऐसा हो, ये जरुरी नहीं है क्योंकि बहुत से कम वजन वाले शिशु भी कुछ समय बाद पूरी तरह स्वस्थ हो जाते हैं जिसका कारण सही खानपान और पूरी देखभाल होता है।

शिशु का जन्म के समय वजन सही रहे, इसके लिए जरुरी है कि प्रेग्नेंसी के दौरान समय-समय पर जांच करवायी जाए और माँ को पूरी देखभाल और पोषण दिया जाये। इसके अलावा किसी भी तरह की असामान्य स्थिति के लिए डॉक्टर से परामर्श जरूर किया जाना चाहिए।

जागरुक टीम को उम्मीद है कि नवजात शिशु के सही वजन और लम्बाई (navjat shishu ka vajan aur ausat lambai kitna hona chahiye) से जुड़ी ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए उपयोगी भी साबित होगी। ये लेख केवल जानकारी के लिए है और ये चिकित्सा सलाह नहीं है। अपने चिकित्सक से सलाह अवश्य लें।

नवजात शिशु की देखभाल कैसे करें?

अधिक जानकारी के लिए ये भी देखें:

Indian newborn baby height and weight in Hindi