Home » सामान्य ज्ञान » सबसे छोटा दिन कब होता है?

सबसे छोटा दिन कब होता है?

आइए जानते है साल मे सबसे छोटा दिन कब होता है (sal ka sabse chhota din kab hota hai) और कुछ रोचक जानकारियाँ। खगोलीय घटनाओं ने हमेशा ही हमें हैरानी में डाला है और साल में होने वाली कुछ ख़ास घटनाओं ने हमें रोमांचित भी किया है और वो घटनाएं है।

  • साल में दो दिन दिन और रात की अवधि बराबर होना
  • साल में एक दिन बड़ा दिन और रात छोटी होना और
  • साल में एक दिन छोटा दिन और रात बड़ी होना

सबसे छोटा दिन कब होता है? (sal ka sabse chhota din kab hota hai)

21 मार्च और 23 सितम्बर को दिन और रात की अवधि बराबर हो जाती है। 21 जून को साल का सबसे बड़ा दिन आता है और 22 दिसंबर को साल का सबसे छोटा दिन होता है।

22 दिसंबर को सूर्य की किरणें पृथ्वी पर कम समय के लिए पड़ती हैं इसलिए इस दिन दिन छोटा होता है और रात बड़ी हो जाती है। इस घटना को शीत अयनांत या विंटर सोलेस्टाइस कहते हैं।

22 दिसंबर को सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण में प्रवेश करता है और इस दिन सूर्य मकर रेखा के लंबवत होता है और कर्क रेखा को तिरछा स्पर्श करता है इसलिए इस दिन सूर्य जल्दी अस्त हो जाता है जिससे दिन छोटा हो जाता है और रात बड़ी हो जाती है।

इसी तरह साल में दो दिन ऐसे होते हैं जब दिन और रात बराबर होते हैं। इसे इक्वीनोक्स कहते हैं और साल के दो दिन यानी 21 मार्च और 23 सितम्बर को दिन और रात की अवधि बराबर होती है। इन दो दिनों में सूर्य धरती की भूमध्य रेखा के ठीक ऊपर से गुजरता है जिसके कारण दिन और रात की अवधि 12-12 घंटे हो जाती है।

पहले समय में गर्मियों और सर्दियों के मौसम का पता लगाने के लिए भी इक्वीनोक्स को एक संकेत की तरह इस्तेमाल किया जाता था और दशहरा, दिवाली जैसी त्यौहार इसी पर आधारित हुआ करते थे।

उम्मीद है सबसे छोटा दिन कब होता है (sal ka sabse chhota din kab hota hai) कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।