Home » साहित्य संस्कृति » सांता क्लॉज कौन है?

सांता क्लॉज कौन है?

आइये जानते हैं सांता क्लॉज कौन है। प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को क्रिसमस के मौके पर बच्चों के प्यारे लाल-सफेद कपड़ों में बड़ी-सी सफेद दाढ़ी और बालों वाले सांता क्लॉज आते हैं और अपने कंधे पर तोहफों से भरी पोटली से बच्चों को गिफ्ट निकलकर देते हैं।

ज्यादातर लोगों को नहीं पता होता है की सिर पर एक लाल और वाइट कलर की पट्टी वाली टोपी पहने और अपनी पीठ पर खिलौनों का झोला लादे बूढ़े बाबा ‘सांता क्लॉज’ आखिर कौन है और ये क्रिसमस के दिन इस तरह के वेश क्यों पहनते हैं तो आइये जानते है की बच्चों के पसंदीदा ये सांता क्लोज़ कौन हैं और क्या है उनका इतिहास।

सांता क्लॉज कौन है?

बच्चे प्यार से सांता क्लॉज को ‘क्रिसमस फादर’ भी कहते हैं। सांता क्लॉज का जीजस से कोई भी संबंध नहीं है लेकिन सांता क्लॉज के बिना क्रिसमस अधूरा ही लगता है। सेंट निकोलस को सांता क्लॉज के नाम से जाना जाता है। सेंट निकोलस का जन्म तीसरी शताब्दी में हुआ था जिन्हें बच्चों के बीच सांता क्लॉज के नाम से जाना जाता है।

सेंट निकोलस का जन्म आधुनिक तुर्की में लगभग 280 ईसवी में हुआ था और रईस परिवार के होने के कारण उन्हें गरीबों और जरूरतमंदों की मदद करना बहुत अच्छा लगता था।

माना जाता है की वे हर साल 25 दिसंबर को बच्चों के रात में सोने के बाद उनके लिए उपहार, खिलोने और खूब सारी मिठाइयां रख के जाते थे। उन्हें बच्चों के लिए ऐसे वेश बदलकर उपहार रखना अच्छा लगता था इसलिए वे रूप बदलकर ही रात में गिफ्ट देते थे।

READ  सामवेद में क्या लिखा हुआ है और उसका दैनिक जीवन में क्या उपयोग है?

मृत्‍यु के बाद भी खत्‍म नहीं हुई परंपरा

सेंट निकोलस की मृत्‍यु के बाद भी यह परंपरा खत्म नहीं हुई। तब से लोग सांता क्लॉज़ वाली ड्रेस पहनकर या अपना रूप बदलकर बच्चों को हर साल 25 दिसंबर को गिफ्ट, मिठाइयां, खिलोने और उपहार देते हैं।

संता क्लॉज बच्चों के सोने के बाद ही उनके लिए गिफ्ट क्यों देते थे?

सेंट निकोलस को किसी के सामने आकर उनकी सहयता करना पसंद नहीं था इसलिए वे अपने को छुपाने के लिए अपना वेश बदलते थे और अक्सर रात में ही बच्चों के सोने के बाद गिफ्ट देने के लिए निकलते थे ताकि कोई उन्हें कोई पहचाने नहीं और उस गिफ्ट को देख कर खुश हो जाएँ।

कहा जाता है की एक गरीब व्यक्ति था और उसकी चार बेटियां थी पर उसके अत्यधिक गरीबी के कारण वह उनकी शादी नहीं करा पा रहा था तो उसने अपनी चारो बेटियों में से अपनी एक बेटी को बेचने की सोची जिससे वह अपनी बाकि तीनो बेटियों की शादी करा सके और यह सोच कर वह रात में सो गया।

तब निकोलस ने उन लड़कियों को वेश्यावृत्ति से बचाने के लिए चुपके से उन तीनों की बाहर सूख रही जुराबों में सोने के सिक्कों की थैलियां रख दी और इस तरह उन्होंने उस गरीब व्यक्ति की मदद की। इसलिए क्रिसमस की रात में बच्चे अपनी जुराबो (मोज़ों) और थैलों को घर की छतो पर लटका देते है ताकि सांता क्लॉज़ उनमे गिफ्ट रख कर चला जाए।

उम्मीद है आपको जागरूक पर ये सांता क्लॉज़ का इतिहास पसंद आया होगा और हम आगे भी इस तरह की रोचक जानकारी आपके साथ शेयर करते रहेंगे।

READ  पंचतंत्र की कहानियां किसने और क्यों लिखी?

जिंगल बेल्स गीत किसने लिखा था?

जागरूक यूट्यूब चैनल