वर्ल्ड वाइड वेब क्या है?

आइये जागरूक पर जानते हैं वर्ल्ड वाइड वेब क्या है। आज इंटरनेट हमारी लाइफ का बेहद खास हिस्सा बन गया है जो हमारी हर मुश्किल को सॉल्व करने में मदद करता है, हमें एंटरटेन करता है, अपडेट रखता है और अपनों से जुड़ने का जरिया भी बनता है। इस इंटरनेट का सबसे इम्पोर्टेन्ट टूल ‘वर्ल्ड वाइड वेब’ है, जिसके बिना एक-दूसरे से जुड़ना आसान नहीं हो सकता है इसलिए आपको भी वर्ल्ड वाइड वेब के बारे में जानकारी होनी चाहिए इसलिए आज हम इसी बारे में बात करते हैं। तो चलिए, आज वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) के बारे में जानते हैं।

वर्ल्ड वाइड वेब क्या है?

  • किसी भी वेबसाइट के एड्रेस से पहले आपने www लगा देखा होगा। उसी www की फुल फॉर्म ‘वर्ल्ड वाइड वेब’ है। ये इंटरनेट पर सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली सर्विस है।
  • इसके जरिये बहुत सारे वेब सर्वर और क्लाइंट्स एकसाथ जुड़ते हैं।
  • इसे WWW, W3 या Web भी कहा जाता है।
  • www का आविष्कार 1989 में ब्रिटिश वैज्ञानिक टीम बेर्नेर्स–ली ने किया।
  • ये हाइपरटेक्सट मार्क-अप लैंग्वेज (HTML) का उपयोग करके हाइपरमीडिया को संदर्भित करता है।
  • WWW एक प्रकार का इन्फॉर्मेशन स्पेस होता है जहाँ डाक्यूमेंट्स और अन्य रिसोर्सेज की पहचान यूनिफॉर्म रिसोर्स लोकेटर (URL) द्वारा की जाती है।
  • ये हाइपरटेक्स्ट द्वारा इंटरलिंक हो सकते हैं और इंटरनेट के माध्यम से एक्सेस किये जा सकते हैं।
  • जब किसी ब्राउजर के एड्रेस बार पर किसी वेबसाइट के URL से पहले www लिखा होता है तो इसका अर्थ होता है कि वो वेबसाइट किसी वेब सर्वर पर स्टोर है, जो वेब से जुड़ा हुआ है इसलिए उसे एक्सेस करने के लिए www की मदद ली जाती है।
  • www एक बहुत बड़ा नेटवर्क है जहाँ हाइपरटेक्स्ट फाइल्स और वेब पेजेस आपस में लिंक्ड रहते हैं।
  • वर्ल्ड वाइड वेब को चलाने के लिए मुख्य रुप से चार टेक्नोलॉजी इस्तेमाल होती हैं URL, HTTP, HTML और वेब ब्राउजर।

वर्ल्ड वाइड वेब कैसे काम करता है?

  • जब यूजर वेब डॉक्यूमेंट को खोलता है तो इसके लिए यूजर द्वारा वेब ब्राउजर का इस्तेमाल किया जाता है जो एक प्रकार की एप्लिकेशन होती है।
  • जब वेब ब्राउजर में डोमेन या URL का नाम लिखा जाता है तो ब्राउजर http के डोमेन एड्रेस को सर्च करने की रिक्वेस्ट जनरेट करता है क्योंकि हर डोमेन का अलग एड्रेस होता है।
  • इसके बाद ब्राउजर डोमेन नेम को सर्वर IP एड्रेस में बदल देता है, जिसे www उस सर्वर में सर्च करता है।
  • जब एड्रेस उस सर्वर से मैच हो जाता है, जिससे डोमेन को होस्ट किया गया है तो सर्वर उस पेज को ब्राउजर के पास वापिस भेज देता है जिसे यूजर अपने वेब ब्राउजर पर आसानी से देख सकते हैं।
  • इंटरनेट और WWW एकसमान नहीं होते हैं। इसे आप इस तरह समझ सकते हैं कि इंटरनेट की शुरुआत WWW से पहले हुयी थी और इंटरनेट WWW के बिना भी चल सकता है जबकि WWW इंटरनेट के बिना नहीं चल सकता है।
  • दोस्तों, वर्ल्ड वाइड वेब क्या है और ये कैसे काम करता है, ये जानकारी अब आपके पास भी ही। जागरुक टीम को उम्मीद है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और WWW के महत्त्व और उपयोग को समझने में मददगार भी साबित होगी।

पार्ट टाइम ऑनलाइन बिजनेस कैसे करे?

7 thoughts on “वर्ल्ड वाइड वेब क्या है?”

  1. वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) HTML , HTTP , वेब सर्वर और वेब ब्राउज़र पर कार्य करता है। किसी भी वेबसाइट के नाम को उसके URL (Uniform Resource Locator) के नाम से भी जाना जाता है।

  2. सन 1989 में ब्रिटिश सॉफ्टवेयर इंजीनियर टिम बर्नर्स ली ने पहला वेब ब्राउजर WorldWideWeb. app का आविष्कार किया था और 12 मार्च को इन्होंने अपने इस प्रोजेक्ट का प्रपोजल ‘इनफॉरमेशन मैनेजमेंट: ए प्रपोजल’ अपने बॉस को सबमिट किया था।

  3. ज्यादातर लोगों का यही मानना हैं कि वेब और इंटरनेट दोनों ही समान है लेकिन ऐसा नहीं है। इंटरनेट और वेब दोनों का ही अलग – अलग कार्य है। इंटरनेट, वास्तव में सर्वर के वैश्विक नेटवर्क को Reference करता है जो web पर जानकारी साझा करने का कार्य करता है इसी कारण वेब को इंटरनेट का एक बहुत बड़ा हिस्सा माना जाता है।

Leave a Comment